Chai Shayari

जीभ जलने पर जब “चाय” नहीं छोड़ी जाती,
तो दिल जलने पर “इश्क” कहां से छोड़ देंगे।